Job, Emplyment and career opportunities in NGOs in India

How to get Job in NGO

NGO Careers : Want to Get Jobs in NGO?

To get Job in NGO or to get Employment in NGO – how and what matters for?
To work in and work for NGO is to be a change maker and catalyst as part of social development process. To getting chance to work for a NGO provides opportunities to support and help the needy persons and groups of society to make positive changes in their lives and circumstances. To Work in social sector is the best option for the people who want to work for them and for the society as well as they work as a part of the process that creates alternative for individual persons and groups of masses. The Social development sector is established and equipped with all kind of opportunities and options for the persons who want to work as a part of it with traditional work practices and with modern and professional skills.

What is requirement to work in NGO?

Is there any specific degree required? Do I have to talk distinctive dialects? Is it to be  a volunteer before job? Is there any experience necessary for it? NGOs work simply like some other business. Then difference – NGO is social entrepreneurship and for non profit and for social service. Business is entrepreneurship to earn profit. NGOs have individuals working in bookkeeping, administration, raising money and operations. The bigger global NGOs keep different sections for different jobs like administration, management, coordination, advertising, business advancement, public relations, development of organisation, lawful and other kind of works.

Frequent opportunities available to get Job – be clear with motivational factor
The opportunities to get associated with NGO as employees are available at frequent times. There are a huge number of chances publicized in NGOs consistently, however the main thing you have to do is choose precisely what it is you need to do. It must be clear before joining any NGO as the social work and management part that what would you like to accomplish, what is your task and what change would you like to find in the society? You have to clear that what is the motivational factor and how you will get satisfaction and how you can associate with the organisation and the team. This can help the candidates to decide about the available option and the type of job work they want to do and the type of organisation they want to work with. Regardless of the specific kind of NGO that is working for women development, child development, human right, animal welfare, physically challenged persons, old age house or on other social issues that they can consider, it’s upto the organisation providing work arrangements and opportunities.

To get secure job in NGO is similar like other business groups.

It depends upon the qualities, aptitudes, knowledge, skills and experience of the candidates that will decide if they can get the initial step towards the targets. Put resources into yourself and create abilities that are important to the part you need to do and the association you need to work for.
If the expected candidates are eligible to fulfill the qualifications with experience that the NGOs are searching for then they can find and get for such employments they are intrigued and can join. If anyone wants to be associated with social sector for long time then it is necessary to develop their skills. Some of the most valuable skills can enhance career opportunities in NGO.  They have to check the required level of employments to get a comprehension of the essential necessities however take a look at more senior ranking to set up a valuation for what experience and qualities they may require later on.

Be ready to work in field and Traveling
If the candidates are ready to do field work and have capacity then they can get most of the jobs in social sector. When the traveling is required the candidates must be ready for it.
The job seeker and who are looking opportunities in NGO have to manage resources according to future by creating proficient aptitudes that are applicable and sought after with the organisation they need to work for. Depending on their part and decision of association, building up extra dialect abilities could be a preferred standpoint when applying for employments at an International NGO. The capacity to talk and comprehend different dialects is particularly esteemed, and here and there requested, in some improvement associations. Learning of remote dialects will empower them to speak with local public in rural and urban areas, government authorities, media and staff that will enable them to work much more adequately.

Should have social understanding
The candidates who wish to work with any organisation should have social understanding about the groups and communities, it is essential that experts can show that they are versatile, ready to oversee troublesome circumstances and equipped for successful clash determination. Professionals who are associated with NGO field should be delicate and ready to adjust to various cultural expectations and desires that are required to modify their behaviour. According to different societies and practical lifestyles the NGOs expect these aptitudes are basics for specific sorts of improvement work including crisis help, rural development, women empowerment and other issues.
The experience and skills in certain fields can help job seekers to find and setup with the required occupation they want to do in NGO. After getting temporary job options candidates can permanent and established job in that NGO. It depends on the work style and association with the task they have provided to complete it in certain circumstances and time frames.

Start wil Volunteering
To join NGO as career you can join as Volunteers. Some times the volunteers can join the job in the NGOs after certain time. Volunteering can help to comprehend aptitudes and upgrade the CV of persons who wish to join social sector as job and professional part.


एनजीओ में रोजगार कैसे प्राप्त करें?

एनजीओ क्षेत्र में जीवनयापन : एनजीओ में नौकरी के जरिये कैसे जुड़ें?
किसी स्वयंसेवी संस्था (एनजीओ) के लिए कार्य करना समाज व देश के विकास के लिए कार्य करना होता है। एनजीओ में कार्य करने का अर्थ है सामाजिक विकास में सकारात्मक बदलाव लाने वाला और एक उत्प्रेरक की तरह विकास और बदलाव प्रक्रिया का हिस्सा बनना।
एनजीओ में काम करने से आपको जरूरतमंद लोगों और सामाजिक संगठनों को मदद व सहयोग करने के अवसर प्राप्त होते हैं। सामाजिक क्षेत्र में कार्य करने से आपको बहुत से लोगों से, विभिन्न सरकारी, गैर सरकारी विभागों व अधिकारियों से मिलने और उनके साथ कार्य करने का अवसर मिलता है। अगर आप पारंपरिक, आधुनिक और प्रोफेशनल योग्यता में से किसी भी तरह की योग्यता रखते हैं और पारंगत है तो समाज सेवा के क्षेत्र में एनजीओ के माध्यम से आपको कई तरह के अवसर मिलते है।

एनजीओ में कार्य करने के लिए क्या जरूरी है?
क्या इसके लिए किसी विशेष डिग्री/योग्यता का होना जरूरी है? क्या जॉब से पहले वायलेंटियर (सामाजिक कार्यकर्त्ता) की तरह कार्य करना जरूरी है? वैसे तो एनजीओ का कार्य भी अन्य व्यवसाय की तरह ही है। फिर भी अन्य व्यवसाय से अलग है।
एनजीओ क्षेत्र में जनसेवा, समाज कल्याण का कार्य होता है जो गैर लाभकारी कार्य होता है जबकि अन्य व्यवसाय में लाभ के लिए कार्य होता है। एनजीओ का कार्य भले ही गैर लाभकारी होता है फिर भी एनजीओ सेक्टर में रोजगार के कई बेहतर अवसर है। एनजीओ सेक्टर में कुछ हजार से लेकर कुछ लाख रूपये प्रतिमाह की तनख्वाह पर खूब नौकरियां है। एनजीओ में कार्य संचालन, प्रबंधन, अनुदान लेने के लिए कार्य, लेखा कार्य, सोशल मीडिया क्षेत्र में रोजगार के बेहतर अवसर है। अन्तर्राष्ट्रीय स्तर के बड़े एनजीओ में विभिन्न कार्यक्षेत्र में विभिन्न तरह की नौकरियों के अवसर है। प्रशासनिक, प्रबंधन, कोआर्डिनेशन, फंड रेजिंग, फंड डिस्ट्रीब्यूशन, लिगल सेल, एकाउंट, संचालन आदि में रोजगार के कई अवसर मौजूद है।

संस्थानों में कार्य के लिए स्वयं को योग्य रखें?
एनजीओ में नौकरी और कार्य अवसर बराबर हमेशा उपलब्ध रहते हैं। ये आप पर निर्भर करता है कि आप एनजीओ में किस तरह के कार्य के लिए खुद को योग्य पाते हैं। यह शुरू से ही स्पष्ट होना चाहिए कि समाज के विकास के इस कार्य में आप किस तरह से जुड़े जिससे आप जिस मकसद को लेकर एनजीओ से जुड़ रहे हैं उसे पूरा कर सकें। आपका लक्ष्य क्या है और आप समाज में किस तरह का परिवर्तन लाना चाहते हैं? ये सब स्पष्ट होना चाहिए।
इसका तात्पर्य यह है कि क्या आप पर्यावरण सुधार करना चाहते हैं? यदि हां तो रिन्यूएबल एनर्जी व वृक्षारोपण, जल संरक्षण आदि से जुड़ी एनजीओ में आप किस तरह के कार्य के अवसर पा सकते है इस पर रणनीति बनाए। इसी तरह रोजगार हेतु दक्षता प्रशिक्षण देने वाले एनजीओ रोजगार की आवश्यकता और पूर्ती की मांग को पूरा करते हैं या नहीं? आप यह भी जाँच परख ले कि किस तरह एनजीओ में आप कार्य करना चाहते हैं वहां आपके कैरियर व लक्ष्य के लिए किस तरह के भविष्य में अवसर है।
इसी तरह कुछ एनजीओ विकलांग, महिलाओं, मानवाधिकार, बाल विकास, बुजुर्ग कल्याण आदि पर ही कार्य करती है। तो ये आप पर है कि आप अपनी सोच व धारणा तथा योग्यता के आधार पर किस तरह की एनजीओ से जुड़ना चाहते है।

योग्यता व्यवहार, ज्ञान व दक्षता के आधार पर
एनजीओ सेक्टर में स्थायी नौकरी की तलाश ठीक अन्य व्यवसाय की तरह ही है। दूसरे अन्य व्यवसाय की तरह ही इसमें भी प्रत्याशी की योग्यता उसके व्यवहार, ज्ञान व दक्षता के आधार पर तय होती है कि क्या आवेदनकर्ता एनजीओ में वांछित कार्य को अच्छे ढंग कर पाएंगे। इसलिए प्रत्याशी को चाहिए कि अपने को इस योग्य बनाए कि एनजीओ सेक्टर के साथ जुड़ कर कार्य कर सके।
यदि एनजीओ में कार्य करने के इच्छुक उम्मीदवार में अनुभव सहित एनजीओ के लिए कार्य करने की तमाम योग्यता है तो वे आसानी से एनजीओ सेक्टर में रोजगार पा सकते है। यदि कोई एनजीओ सेक्टर में लंबे समय तक कार्य करना चाहता है तो यह आवश्यक है कि वो अपनी कार्य कुशलता बढ़ाये। कुछ विशेष दक्षता से एनजीओ में कार्य करने के शानदार अवसर मिल जाते है। उन्हें यह अच्छी तरह से पता कर लेना चाहिए कि एनजीओ में कार्य करने के लिए किस किस तरह कि योग्यताएं जरूरी है और वो किस तरह योग्य बनकर एनजीओ में रोजगार पा सकते है। एनजीओ में कार्य करते हुए जो अनुभव प्राप्त होता है उस अनुभव पर बड़े एनजीओ में आकर्षक तनख्वाह पर कार्य मिल जाता है।
यदि प्रत्याशी फील्डवर्क के लिए तैयार है तो समाज सेवा के एनजीओ सेक्टर में पर्याप्त अवसर मौजूद है। जब भी कार्य के दौरान फील्ड में यात्रा करनी हो तो केंडिडेड को उसके लिए तैयार रहना चाहिए।

आवश्यक योग्यताएं व क्षेत्र की समझ कायम रखें
एनजीओ सेक्टर में रोजगार के इच्छुक व्यक्तियों को स्वयं को विभिन्न जरूरी योग्यताओं से अपडेट रहना चाहिए। अंतरराष्ट्रीय एनजीओ में कार्य के लिए एक से ज्यादा भाषाओं का ज्ञान एनजीओ में रोजगार उपलब्धता की गारंटी के अवसर बढ़ा देता है। स्थानीय ग्रामीण बोली, भाषा का ज्ञान भी विशेष उपयोगी है। स्थानीय जनता, सरकारी अधीकारी, मीडिया और स्टाफ के साथ निरंतर सार्थक संवाद करने की योग्यता भी अतिआवश्यक है।
एनजीओ सेक्टर में कार्य करने के इच्छुक प्रत्याशियों को कार्यक्षेत्र के समुदायों के सामाजिक मुद्दों की समझ भी होनी चाहिए।
सामाजिक समस्या से रूबरू होकर उसके समाधान के उपाय की जानकारी भी रखें। सांस्कृतिक विचारधारा कार्यक्षेत्र के समुदाय की कैसी है, इसकी भी अच्छी तरह से जानकारी हो। ग्रामीण विकास व महिला सशक्तिकरण व अन्य मुद्दों पर कार्य करने के लिए एनजीओ सेक्टर में कार्य की ये योग्यताएँ वांछित है।

कुछ विशेष प्रोजेक्ट्स में एनजीओ को अनुभवी व कुछ विशेष क्षेत्र में विशेष योग्यता वाले व्यक्तियों की जरूरत होती है। अस्थाई कार्य से अनुभव लेने के बाद एनजीओ सेक्टर में स्थायी रोजगार प्राप्त किया जा सकता है। यह आवेदनकर्ता के कार्य करने के तरीके और प्रस्तुतीकरण पर निर्भर है। ये इस पर भी निर्भर करता है कि तय समय सीमा में व्यक्ति लक्ष्य को पूरा करने में किस तरह कार्य करता है।

वोलंटीयर के रूप में संस्थानों से जुड़ें
स्वयं सेवी संस्थान से जुड़ने की शुरुआत आप वोलंटीयर (सामाजिक कार्यकर्त्ता) के रूप में भी जुड़ सकते है. वोलंटीयर को निशुल्क सेवाएँ बिना वेतन देनी होती है. एनजीओ सेक्टर में स्थायी रोजगार के लिए पहले एनजीओ सेक्टर में वायलेंटीयर के रूप में कार्य करना भी ठीक रहता है। अपने अवेदनपत्र में अनुभव के रूप में आवेदक अपनी समजिक कार्यकर्त्ता के रूप में दी गई की सेवाओं को दर्शा सकते हैं।

How to get jobs in NGO